Wednesday, November 25, 2020

भ्रष्टाचार के खिलाफ जेहाद: SDM को डिमोशन करके बना दिया तहसीलदार, एक और अपर आयुक्त, एस डी एम, तहसीलदार, आर आई और लेखापाल भी इसी लाइन में

chief_minister_yogi_adityanath__1604739968.jpg भ्रष्टाचार के खिलाफ जीरो टॉलरेंस की नीति में मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने मेरठ के तहसील सरधना में तैनात रहे उपजिलाधिकारी कुमार भूपेंद्र सिंह को डिमोशन करके तहसीलदार के पद पर भेजने का आदेश दिया है। कुमार भूपेन्द्र वर्तमान में मुजफ्फरनगर जिले में तैनात हैं।
प्राप्त जानकारी के अनुसार मेरठ के ग्राम शिवाया, जमाउल्लापुर, परगना दौराला, तहसील सरधना के राजस्व अभिलेखों में पशुचर के रूप में दर्ज 1.5830 हेक्टेयर भूमि वर्ष 2013 में निजी बिल्डर को आवंटित कर दिया गया था।इसकी शिकायत के बाद जांच हुई। वहीं वर्ष 2016 में जबकि एसडीएम के रूप में भूपेंद्र तैनात थे, तब भूपेंद्र ने सरकार के हितों की उपेक्षा करते हुए, निजी हितों की पूर्ति के लिए सम्बंधित पक्षों से मिलीभगत कर रेवन्यू कोर्ट मैनुअल के खिलाफ अगस्त 2016 में अमलदरामद का आदेश पारित कर दिया था। शासन ने इसे कदाचार मानते हुए इन्हें डिमोशन करने का आदेश दिया है। मामले में दोषी एक अन्य तत्कालीन एसडीएम, एक अपर आयुक्त, एक तहसीलदार (अब सेवानिवृत्त) एक राजस्व निरीक्षक व एक लेखपाल के खिलाफ भी कार्रवाई प्रक्रियाधीन है।

Tuesday, November 24, 2020

न्याय विभाग भारत सरकार का वेबिनार 26 नवम्बर को , एडवोकेटस होंगें शामिल , न्याय बंधु – प्रोबोनो लीगल सर्विस अब 26 से उमंग एप्प पर भी उपलब्ध होगी

वेबिनार में भारत के सभी 197 न्यायबंधु होंगें शामिल , ग्वालियर हाईकोर्ट क्षेत्र तथा अधीनस्थ सभी न्यायालयों के लिये इकलौते न्यायबंधु एडवोकेट नरेन्द्र सिंह तोमर होंगें वेबिनार में शामिल
ग्वालियर / मुरैना 24 नवम्बर 2020 , न्याय विभाग भारत सरकार की ओर से प्रोबोनो लीगल सर्विसेज ( न्याय बंधु ) में कार्य कर रहे भारत के सभी 197 एडवोकेटों को ई मेल भेजकर अवगत कराया गया है कि उनके लिये न्याय विभाग भारत सरकार द्वारा एक अत्यंत उपयोगी व महत्वपूर्ण वेबिनार का आयोजन किया जा रहा है , न्याय विभाग सभी प्रकार के न्याय संबंधी तथा इन्नोवेटिव कार्यों हेतु नोडल एजेंसी है । तथा सभी उच्च न्यायालयों के तथा सुप्रीम कोर्ट के न्यायाधीशों को नियुक्त करने / हटाने से लेकर न्याय बंधु / न्याय मित्र आदि कार्यों को एकलित व संकलित करने , सूचीबद्ध करने , न्यायालयों के आधुनिकीकरण आदि सभी कार्यों को करता है ।
न्याय बंधुओं ( प्रोबोनो लीगल सर्विसेज , नालसा – नेशनल लीगल सर्विसेज अथारिटीज एक्ट – 1987 के तहत कार्यरत ) के लिये आयोजित इस वेबिनार में न्याय बंधुओं से उनके विचार, अनुभव , सलाह परामर्श आमंत्रित किये गये हैं । जिस सब पर यह वेबिनार केंद्रित होगा । इसके साथ ही आगे भविष्य में भी ऐसे वेबिनार आयोजित किये जाते रहेंगें ।
सभी न्यायबंधुओं ( प्रोबोनो लीगल सर्विसेज ) को भारत के संविधान की प्रस्तावना भी भेजी गयी है उस पर सभी न्याय बंधुओं के विचार व अनुभव भी आमंत्रित किये गये हैं ।
अब इस वेबिनार के साथ ही 26 नवम्बर से न्याय विभाग भारत सरकार की मोबाइल और वेब एप्लीकेशन न्याय बंधु ( प्रोबोनो लीगल सर्विसेज ) जो कि अभी तक प्ले स्टोर से डाउनलोड करना पड़ती थी , यह एप्लीकेशन अब उमंग एप्प में ही उपलब्ध रहेगी जिसे आसानी से न्यायबंधु तथा , विधिक सहायता के पात्र सभी हितग्राही बहुतायत से उपयोग कर सकेंगें और न्यायालयीन कार्य संपादित कर सकेंगें ।
उल्लेखनीय है कि प्रोबोनो लीगल सर्विसेज ( न्याय बंधु ) को न्याय विभाग भारत सरकार द्वारा सन 2017 में शुरू किया गया था । तब से यह सेवा निरंतर उत्तरोत्तर कार्यरत है और न्यायबंधुओं द्वारा अनेक न्यायालयों में प्रकरण इस सेवा के तहत निराकृत कराये ।

Sunday, November 22, 2020

ग्वालियर-चम्बल संभाग के सभी गाँवों में सन 2023 से पहले मिलेगा नल से जल

भोपाल : शनिवार, नवम्बर 21, 2020, 18:22 IST

प्रदेश की ग्रामीण आबादी शुद्ध पेयजल के लिए परेशान न हो इस दिशा में सरकारी प्रयास तेजी से जारी हैं। जहाँ जलस्त्रोत हैं, वहाँ उनका समुचित उपयोग कर आसपास के ग्रामीण रहवासियों को नल कनेक्शन के माध्यम से पेयजल प्रदाय किया जायेगा। जिन ग्रामीण क्षेत्रों में जलस्त्रोत नहीं हैं वहाँ यह निर्मित किए जायेंगे। कोई भी ग्रामीण रहवासी पेयजल के लिए परेशान नहीं हो यह व्यवस्था चरणबद्ध तरीके से अगले तीन सालों (2023 तक) में पूरा करने का लक्ष्य है।

लोक स्वास्थ्य यांत्रिकी विभाग द्वारा ग्वालियर-चम्बल संभाग के ग्वालियर, गुना, अशोकनगर तथा भिण्ड जिले में 134 ग्रामीण नल-जल प्रदाय योजनाओं हेतु 137 करोड़ 18 लाख रूपये की स्वीकृति दी गई है। विभाग के मैदानी अमले द्वारा जल जीवन मिशन के मापदण्डों के अनुसार प्रकिया प्रारम्भ की जा रही है।

राष्ट्रीय जल जीवन मिशन के अन्तर्गत प्रदेश की समग्र ग्रामीण आबादी को घरेलू नल कनेक्शन से पेयजल की आपूर्ति किए जाने के लिए लोक स्वास्थ्य यांत्रिकी विभाग द्वारा जल संरचनाओं की स्थापना एवं विस्तार के कार्य किए जा रहे हैं। इनमें ग्वालियर जिले की 66, गुना 22, अशोकनगर 20 तथा भिण्ड की 26 जल संरचनायें शामिल हैं। इन जिलों के विभिन्न ग्रामों में पूर्व से निर्मित पेयजल अधोसंरचनाओं को नये सिरे से तैयार कर रेट्रोफिटिंग योजना के अन्तर्गत कार्य किया जा रहा है।

बिजली कंपनी के ठेके पर काम करने वाले आउटसोर्स कुशल एवं अकुशल श्रमिकों को अब दो लाख रू तक अविद्युतीय दुर्घटना पर भी सहायता मिलेगी

भोपाल : शनिवार, नवम्बर 21, 2020, 18:52 IST

मध्य क्षेत्र विद्युत वितरण कंपनी ने आउटसोर्स एजेंसी के माध्यम से कार्यरत कुशल एवं अकुशल श्रमिकों के लिए एक महत्वपूर्ण फैसला लिया है। इस फैसले के अंतर्गत उन्हें बाहरी एजेंसी का व्यक्ति मानते हुए कार्य के दौरान अपरिहार्य अविद्युतीय दुर्घटना (यथा कार्य के दौरान पोल/सीढ़ी से फिसल कर गिरना/चोट लगना/कंपनी के वाहन के दुर्घटनाग्रस्त होने) से प्रभावित होने पर भी उन्हें विद्युत दुर्घटना में प्रभावित बाहरी व्यक्तियों के समकक्ष विद्युत दुर्घटना में मिलने वाली आर्थिक सहायता स्वीकृत की जाएगी।

इस फैसले के अंतर्गत यदि कोई आउटसोर्स एजेंसी का कुशल अथवा अकुशल श्रमिक कार्य के दौरान मृत हो जाता है तो उसके परिवार अथवा निकटतम वारिस को 4 लाख की आर्थिक सहायता बिजली कंपनी द्वारा दी जाएगी। इसी प्रकार विद्युत दुर्घटना में 40 प्रतिशत से 60 प्रतिशत विकलांगता की अवस्था में वित्तीय सहायता के रूप में 59 हजार 100 रुपये, 60 प्रतिशत से अधिक विकलांगता पर 2 लाख रुपये की आर्थिक सहायता दी जाएगी।

मुख्यमंत्री चौहान 23 नवम्बर को स्व-सहायता समूहों के खातों में डालेंगे 150 करोड़ रूपये

मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान ‘सशक्त महिलाएँ आत्मनिर्भर मध्यप्रदेश’ के क्रम में 23 नवम्बर को राज्य ग्रामीण आजीविका मिशन अंतर्गत गठित स्व-सहायता समूहों के सदस्यों को 150 करोड़ रुपये का बैंक ऋण वितरित करेंगे। मुख्यमंत्री श्री चौहान विभिन्न जिलों के हितग्राहियों से चर्चा भी करेंगे। इस वर्चुअल कार्यक्रम में पंचायत एवं ग्रामीण विकास मंत्री श्री महेन्द्र सिंह सिसौदिया और राज्य मंत्री श्री राम खेलावन पटेल भी सम्मिलित होंगे।

अपर मुख्य सचिव पंचायत एवं ग्रामीण विकास विभाग श्री मनोज श्रीवास्तव ने बताया कि मध्यप्रदेश राज्य ग्रामीण आजीविका मिशन अन्तर्गत ग्रामीण क्षेत्रों में‍निवासरत निर्धन परिवारों की महिला सदस्यों को स्व-सहायता समूहों से जोड़कर सामाजिक एवं आर्थिक सशक्तिकरण किया जा रहा है। आमतौर पर देखने में आता है कि ग्रामीण क्षेत्र में लोग बैंकिंग सेवाओं की प्रक्रियाओं में दस्तावेजीकरण व अन्य औपचारिकताओं की कठिनाई के कारण पात्र होने के बावजूद योजनाओं का लाभ लेने से वंचित रह जाते हैं। राज्य सरकार द्वारा इस प्रक्रिया को और सरल करने के उद्देश्य से बैंकों के साथ भी व्यापक स्तर पर समन्वय स्थापित किया गया है। अब स्व-सहायता समूहों को आसानी से ऋण मुहैया कराया जा रहा है।

अपर मुख्य सचिव ने बताया कि मुख्यमंत्री श्री चौहान द्वारा 20 सितम्बर 2020 को 150 करोड़ रुपये बैंक ऋण के रूप में समूहों को वितरित किये जा चुके हैं। उन्होंने बताया कि समूह के बैंक ऋण प्रकरण सॉफ्टवेयर के माध्यम से प्रस्तुत करने के साथ-साथ सघन निगरानी एवं पारदर्शी प्रक्रिया बनाई गई है। समूहों को वार्षिक बैंक ऋण वितरण का लक्ष्य बढ़ाकर 1400 करोड़ किया गया है। अब तक आजीविका मिशन के माध्यम से 33 लाख से अधिक ग्रामीण निर्धन परिवारों को 3 लाख से अधिक स्व-सहायता समूहों से जोड़कर 1865 करोड़ रुपये बैंक ऋण के रूप में वित्तीय सहायता प्रदान की गई है।

गोपाष्टमी के अवसर पर गो-अभ्यारण्य सालरिया में गो-पूजन करेंगे, मुख्यमंत्री चौहान 22 नवम्बर को गो-कैबिनेट की पहली बैठक लेंगे

मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान प्रदेश में गो-संरक्षण एवं गो-संवर्धन के लिए गठित की गई गो-कैबिनेट की पहली बैठक 22 नवम्बर गोपाष्टमी को प्रातः 11 बजे भोपाल से वीडियो कान्फ्रेंसिंग के माध्यम से करेंगे।

इसके पश्चात मुख्यमंत्री श्री चौहान आगर-मालवा ज़िले के सालरिया गो-अभ्यारण्य जाकर वहां गो-पूजन करेंगे तथा वहां गो-संगोष्ठी में देशभर के गो-विशेषज्ञों के साथ चर्चा करेंगे।

निर्धारित कार्यक्रम के अनुसार मुख्यमंत्री श्री चौहान दोपहर 12.50 बजे भोपाल से प्रस्थान कर 1.30 बजे सालरिया पहुंचेंगे तथा वहां कार्यक्रम में भाग लेंगे। मुख्यमंत्री श्री चौहान सायं 5 बजे सालरिया से प्रस्थान कर 5.40 पर भोपाल वापस आएंगे।

Saturday, November 21, 2020

गुरू ने बदली राशि , शनि गुरू अब हुये एक साथ एक ही राशि में , जानिये क्या होगा इसका अर्थ और असर

91625860_219950299319010_6438680529649795072_n.jpg मकर राशि में हुये शनि गुरू इकठ्ठे दो धुर विरोधी गृह , शनि की राशि में एक साथ , शनि के घर में गुरू रहेंगें शनि के साथ, अतिचारी होकर
- नरेन्द्र सिंह तोमर ‘’आनन्द’’ , एडवोकेट एवं
सी ई ओ तथा प्रघान संपादक , ग्वालियर टाइम्स ग्रुप

कल दिनांक 20 नवम्बर 2020 शुक्रवार को , गुरू जैसे बृहद प्रभावकारी गृह ने राशि परिवर्तन दोपहर करीब डेढ़ बजे किया और अब तक धनु राशि में गोचर कर रहे , चल रहे गुरू अब मकर राशि में आ चुके हैं ।
हालांकि धनु राशि गुरू की ही राशि है और धनु के स्वामी गुरू के ही घर में गुरू अभी तक निवास कर रहे थे । और कल से वे अब शनि की ही दूसरी राशि अर्थात मकर राशि में ( शनि के ही घर में ) अब रहने आ गये हैं । इस घर की खास बात यह है कि इस राशि मकर का स्वामी यानि इस घर का मालिक भी यहीं इसी घर में पहले से ही मौजूद है । गुरू को अब शनि के साथ शनि के घर में आगामी समय में फिलहाल रहना है ।
ज्योतिषीय परिकल्पना और आकलनों के मुताबिक शनि और गुरू एक दूसरे के धुर विरोधी ग्रह हैं । और दोनों में परस्पर विरोध और वैमनस्यता रहती है । गुरू एकदम से शनि के विपरीत गुण रखते हैं ।
इस सारे ग्रहीय परिवर्तन में कुछ आवश्यक गणित पर ध्यान देना अत्यंत आवश्यक है , मसलन दोनों ग्रहों के अंश और प्रभाव के साथ दोनों ग्रहों की चालें , अस्वाभाविक चालें जैसे कि वक्री, अस्त, उदय और अतिचारी चालें आदि ।
पहले तो यह कि मकर राशि में शनि , अपने खुद के ही घर में बैठे हैं , और गुरू अपनी नियमित चाल चलते चलते शनि के घर आ पहुंचा है और वहां अब शनि के साथ ही उसे वक्त गुजारना है , शनि इस समय आज की तारीख तक नवजात अवस्था में हैं अर्थात नवजात शिशु जैसे हाल व अवस्था में हैं , मतलब शनि इस वक्त बेअसर हैं और अपना अच्छा बुरा कुछ भी असर या प्रभाव दिखाने की हालत में नहीं हैं ।
और गुरू ने तो कल ही अपना गोचर इसी घर में यानि मकर राशि में शुरू किया है । इसलिये स्वाभाविकत: और प्राकृतिक रूप से गुरू कल ही जनमे हैं और वे भी इस समय आज दिनांक को नवजात शिशु वाली अवस्था में हैं । इसलिये वे प्रभावहीन और बेअसर हैं ।
इन दो नवजातों के एक घर में होने और फिलहाल एक ही पलकी में झूलने का अर्थ भी जानना ज्योतिषीय दृष्टिकोण से परम आवश्यक है , इसके लिये दोनों ग्रहों की चालों और गतियों का अध्ययन परम लाजमी है ।
विशेष खगोलीय घटना :- भारतीय ज्योतिषीय पद्धति जिसे चान्द्र पंचांग कहा जाता है और चन्द्रमा की गति पर आधारित तिथ्यादि से निर्धारित होता है , के मुताबिक तथा भारतीय सौर सिद्धांत के भी मुताबिक , इसके साथ ही वर्तमान आधुनिक विज्ञान ( फिजिक्स एंड एस्ट्रोनोमिकल ) वैज्ञानिक अनुसंधान केन्द्रों के मुताबिक 21- 22 जून को सबसे बड़ा दिन और इनके बीच की रात साल भर में सबसे छोटी रात होती है , इसी प्रकार 21 -22 दिसम्बर को सबसे छोटा दिन और इनके बीच की रात साल भर की सबसे बड़ी रात होती है ।
इसी 21 -22 दिसम्बर 2020 को इस साल यह दोनों नवजात ग्रह शनि और गुरू मकर राशि में एक साथ , एकदम समान अंशों पर आयेंगें । संयोगवश यह एक विचित्र स्थिति इन दोनों ग्रहों की उसी वक्त घटित होगी जब दिनमान और रात्रिमान में सालाना बदलाव हो रहा होगा । और इस दिन ही यह दोनों ग्रहों नवजात अवस्था से किशोर अवस्था की ओर बढ़ने से पहले एक ही समान अंश पर होंगें और एक दूसरे के साथ होगें एक ही राशि या एक ही घर में ।
ज्योतिष में समान अंश पर एक ही राशि में ग्रह होने पर उन ग्रहों की अमावस बन जाती है, अर्थात स्पष्ट है कि शनि और गुरू की पारस्परिक इस दिन अमावस बन जायेगी । कुल मिलाकर शनि और गुरू प्रभावित लोगों या इन दोनों से प्रभावित प्रकृति में उपलब्ध चीजों के लिये यह समय अमावस का समय होगा , जिसका अर्थ है कि होगा तो सब कुछ उपलब्ध , मगर दिखेगा नहीं । नजर नहीं आयेगा , न तो मार्ग और न मंजिल , कुछ भी नजर नहीं आयेगा ।
इस सब में गुरू की चाल स्पष्ट हो जाती है कि चंद रोज में गुरू का शनि को अमावस दे देने का अर्थ है कि गुरू की चाल अतिचारी रहेगी और गुरू का मकर राशि में गोचर प्रचंड गति से चलेगा , अतिचारी गुरू की चाल इतनी तेज होगी कि आज शून्य अंश पर चल रहे गुरू , एकदम से ही 05 अप्रेल 2021 को अर्थात महज चार साढ़े चार महीने में ही राशि बदल देंगें और शनि की ही दूसरी राशि कुम्भ राशि में यानि शनि के दूसरे घर में , प्रवेश कर जायेंगें । गुरू की इस दरम्यान अर्थात 05 अप्रेल तक की अतिचारी चाल काफी अर्थ रखती है और शनि के साथ चलते , शनि उस वक्त जब गुरू राशि बदलेंगें 05 अप्रेल को अपनी पूरी युवा अवस्था में 16- 17 अंश पर होगा ।
शनि और गुरू के इन अंशों और चालों के अनेक अर्थ और मायने हैं , शनि 07 जनवरी 2021 को अस्त होंगें और 09 फरवरी को उदित होंगें । शनि इस समय होशोहवास में किशोरावस्था में होंगें ।
इन ग्रहों के एक राशि में गोचर करने और अतिचारी गुरू के कारण राजनैति उथलपुथल और क्या क्या घटनाक्रम घटेंगे , आप पर सीधे सीधे इसका क्या असर पड़ेगा , इसकी व्याख्या और विश्लेषण -: -
( शेष भाग कल के अंक में जारी रहेगा ……….. … )
www.gwaliortimeslive.com
www.gwaliortimes.in
Narendra Singh Tomar “Anand”
42 Gandhi Colony
Morena M.P.
Whatsapp : 9425738101
7000998037

Admin area

Last 10 entries

No new comments

  • No comments

Calendar