Saturday, October 31, 2020

जयंत तोमर जमीन से विधानसभा तक आपकी आवाज बनेंगे: रघु ठाकुर

img-20201029-wa0029.jpg देश के प्रख्यात विद्वान और समाजवादी चिन्तक और लोकतांत्रिक समाजवादी पार्टी के राष्ट्रीय संरक्षक रघु ठाकुर ने धोबाटी गांव में लोगों को संबोधित करते हुये कहा कि देश में राजनीतिक, सामाजिक और आर्थिक गैरबराबरी है। राजनीतिक दलों द्वारा दलित, पिछ़डा और वंचित वर्ग के लोगों को नजरअंदाज किया जाता रहा है। रघुठाकुर लोकतांत्रिक समाजवादी पार्टी के दिमनी से प्रत्याशी जयंत सिंह तोमर के समर्थन में 29 और 30 अक्टूबर को दिमनी विधानसभा में दो दिवसीय दौरे पर हैं।

गुरूवार को दिमनी विधानसभा के अंतर्गत आने वाले भवूती शाला और धोवाटी गांव में रघु ठाकुर ने दो जनसभाओं को संबोधित किया। इस अवसर पर लोकतांत्रिक समाजवादी पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष शंभूदयाल बघेल, राष्ट्रीय उपाध्यक्ष श्यामसुन्दर यादव, दिमनी से लोकतांत्रिक समाजवादी पार्टी के प्रत्याशी जयंत सिंह तोमर भी उपस्थित रहे।

रघुठाकुर ने लोगों को संबोधित करते हुये कहा कि दल बदल और मौकापरस्त राजनेताओं ने आपके मत का अपमान किया है। यह उपचुनाव उन्हीं की देन है। पूरा देश जब कोरोना जैसी महामारी से जूझ रहा है। हमारे मजदूर वंचित भाई बंधु तमाम तकलीफों को झेलते हुये पैदल ही घर जाने को मजबूर हुये थे। ऐसे समय में यह चुनाव आप पर थोपा गया है।

लोकतांत्रिक समाजवादी पार्टी के दिमनी प्रत्याशी जयंत सिंह तोमर के समर्थन में बात करते हुये रघु ठाकुर ने कहा कि जयंत तोमर पत्रकारिता के विद्वान है। अपने जीवन में इन्होंने वंचितों को अधिकार दिलाने की कई लड़ाइयां लड़ी हैं।
लोकतांत्रिक समाजवादी पार्टी ने जयंत सिंह तोमर को अपना दिमनी से प्रत्याशी बनाकर आपके बीच एक ऐसे सेवक को खड़ा किया है जो जमीन से लेकर विधानसभा तक आपकी आवाज बनेगा.

लोकतांत्रिक समाजवादी के इस चुनाव में संकल्प बिन्दुओं को दोहराते हुये श्री ठाकुर ने कहा कि हमारा प्रत्याशी अगर विधानसभा में पहुंचता है तो विधायक को मिलने वाली पेंशन को किसानों और बेरोजगार युवाओं के लिये उपयोग करने का प्रस्ताव लेकर आयेगा और जन सरोकार के मुद्दों उठायेंगे।

लोकतांत्रिक समाजवादी पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष शंभूदयाल बघेल और राष्ट्रीय उपाध्यक्ष श्यामसुन्दर यादव ने लोगों से लोकतांत्रिक समाजवादी पार्टी के प्रत्याशी जयंत सिंह तोमर को वोट देने की अपील की.

Friday, October 30, 2020

वीडियो काल के जरिये अपराधी करते हैं टारगेटेड शिकार की लोकेशन और ग्राउंड तथा बैकग्राउंड ट्रेस , रैकी के काम आती है लाइव वीडियो लोकेशन

वीडियो काल अटेंड करने से पहले हो जायें सावधान
नरेन्द्र सिंह तोमर , एडवोकेट
8

फीसदी आपराधिक वारदातों में की जाती है रैकी और फिर हत्या से लेकर सायबर क्राइम और चोरीयों के लिये इस्तेमाल किये जाते हैं , मोबाइलों की लोकेशन और आपकी लोकेशन और पृष्ठभूमि से लेकर हालातों और हालत की ट्रेसिंग ….
जहां इस समय सायबर क्राइम का जोर बढ़ता जा रहा है , वहीं अभी भारत के पुलिस विभाग में न तो सायबर क्राइम विशेषज्ञ उपलब्ध हैं और न तकनीकी जानकारी के विशेषज्ञ , केवल एथिकल हैकिंग के कोर्स मात्र करे चंद लोगों के जरिये ही पुलिस विभाग अपना काम चला रहा है जबकि सायबर क्राइम एक बहुत बड़ी व्यापक विधा है और इसका दायरा व क्षेत्र तकरीबन आम आदमी के सभी निजी जीवन तक और प्रायवेसी तक पहुचता है ।
98 फीसदी आम आदमी को पता ही नहीं चलता और पता ही नहीं हो पाता कि उसके छोटे से मोबाइल फोन या उसके आई फोन या टेबलेट या डेस्कटाप के जरिये न तो उसका कुछ भी निजी रहा है और न कोई भी जानकारी निजी रही है ।
मसलन कई बरस पहले जब स्मार्ट फोन दुर्लभ थे और 10 हजार लोगों में से किसी एक पर स्मार्ट फोन होता था । 3 जी नेटवर्क तक आदमी कुछ हद तक महफूज था । भारत में 4 जी नेटवर्क के साथ तमाम दुष्टतायें अपने आप ही साथ आ गईं । लेकिन 4 जी के साथ , सावधानियां और सुरक्षायें कंपनीयां उपलब्ध नहीं करा पाईं । या धन के लालच और प्रतिस्पर्धा से भयभीत होकर बाजार कैप्चर हाथ से निकल जाने के डर या लोभ लालच से जानबूझ कर नहीं कराई गईं । अब तो 5 जी का टर्निंग टाइम है , भारत में 5 जी की लांचिंग और टेस्टिंग 2018 में की गई थी और सितंबर 2018 तक इसे आम लोगों के लिये लांच करने की घोषणा की गई थी , लेकिन किसी वजह से इसे पहले जनवरी 2019 तक फिर सितंबर 2019 तक बढ़ाया गया , सन 2019 में 5 जी की स्पेक्ट्रम की नीलामी की गई , इसे दो कंपनीयों ने खरीदा और बाद में एक अन्य कंपनी ने भी खरीदा । कंपनीयों ने सन 2019 में इसे जनवरी 2020 में चालू करने की घोषणा की , लेकिन कंपनीयां स्पेक्ट्रम खरीदने के बावजूद इसे अक्टूबर 2020 बीतने तक भारत में शुरू नहीं कर पाईं । जबकि 5 जी फोन बाजार में जनवरी 2020 के पहले ही सन 2019 में बाजार में आ गये ।
खैर नेटवर्क में कोई सी भी हो , मुख्य खतरा जहां से शुरू होता है उसमें पांच चीजें प्रमुख हैं 1. डिवाइस ( कम्प्यूटर , मोबाइल , लैपटाप , आई फोन आदि , डिवाइस की सम्यक परिभाषा आई टी एक्ट 2000 में देखें , यही परिभाषा व्यापक है , जिसमें किसी कम्यूनिकेशन डिवाइस को शामिल किया गया है चाहे वह कोई भी उपकरण हो और जिसका इस्तेमाल किसी भी संचार में या किसी भी माध्यम में आता हो जो किसी आवाज , इमेज , फोटो, वीडियो , या टेक्स्ट – लेख को कम्यूनिकेट करती हैं और संगृहीत की जाती हैं तथा एक जगह से दूसरी जगह स्थानांतरणीय और हस्तांतरणीय हैं ) चाहे वह फिजिकल हो , आप्टीकल हो या वायरलेस हो या इन्फ्रा रेड टेक्नालाजिकल कोई भी ( इन्फ्रारेड को सामान्य भाषा में आई आर कहा जाता है ) , कोई मॉडम या रूटर , कैमरा , ड्रॉन आदि सभी ( जिन के लिये गृह मंत्रालय द्वारा लायसेंस जारी किया जाता है वे मालवाहक ड्रोन , बगैर लायसेंस लिये कोई भी शख्स या कंपनी या सर्विस प्रोवाइडर कैसा भी कोई ड्रान कहीं भी नहीं , कभी भी नहीं उड़ा सकता या चला सकता है ) इस संबंध में गृह मंत्रालय भारत सरकार द्वारा विस्तृत निर्देश एवं नियमावली व अनुज्ञप्ति विधान जारी किये गये हैं , ग्वालियर टाइम्स इन्हें सम्यक अवसर पर प्रकाशित करेगी । डिवाइसों की सेटिंग प्रमुख विषय वस्तु है , जिसमें प्रायवेसी और सिक्योरिटी सेटिंग्स ( निजता , गोपीयता और सुरक्षा सेटिंग ) प्रमुख हैं इन्हें सोच समझ कर अपनी आवश्यकता नुसार बेहद सख्त मोड पर सेट करके रखना चाहिये , यदि वायरलेस या आई आर के जरिये इन सेटिंगों से कोई छेड़छाड़ करता है या पासवर्ड चुराता है या किसी या सारी सेटिंग्स अल्टर करता है या किसी डिवाइस को फेब्रिकेट करता है , जाली डिवाइस या सिम क्लोन करके बनाता या इस्तेमाल करता है तो यह सब सायबर क्राइम् के तहत आता है और आई पी सी की तमाम धाराओं सहित , आई टी एक्ट 2000 के तहत परिभाषित अपराध हैं और इनकी सजा आजीवन कारावास तक निर्घारित है ।
2. सिम – दूसरे पहलू में सिम कार्ड चाहे वह फिजिकल सिम हो या इलेक्ट्रानिक या ई सिम हो या किसी सिम से कनेक्ट होने वाला आई आर या वायरलेस नेटवर्क हो जिसमें डब्ल्यू पी एस , वाई फाई , वी पी एन , डायरेक्ट वायरलेस / डब्ल्यू पी एस कनेक्टिविटी आदि शामिल हैं । किसी ऐसी कंपनी की सिम लें जिसमें कंपनी किसी भी फ्री योजना में या प्रथम रीचार्ज ( एफ आर सी ) में लाइव , फ्री टी वी पैक , फ्री सबस्क्रिप्शन ( डाटा और कालिंग के अलावा ) उपलब्ध न कराती हो , सिमों को बेचने की यही योजनायें लोभ लालच में आदमी के साथ होने वाली वारदातों की मुख्य वजह बनती है और अपराधी जो कि अधिकतर सिम विक्रेताओं से जुड़े रहते हैं , ऐसी सिमों / नई सिमों ( अपराधीयों की भाषा में इन्हें कमजोर सिम या सिमों की कमजोरी कहा पुकारा जाता है और ऐसी सिमों को और सिम धारक को अपना टारगेट बनाया जाता है , सिम सुरक्षा के लिये सबसे अव्वल सिम कार्ड में लाक डाल कर रखना चाहिये । सिम लाक खोलने के लिये अपराधी को लाक पासवर्ड डालना पड़ेगा , और पी यू के कोड जानने की जुगत लगानी होगी । अगर आपका पी यू के कोड अपराधी किसी तरह से जान लेते हैं तो आप बजाय सिम बदलने के लिये अपना सिम पोर्ट करा दें , इसे एम एन पी कहा जाता है , कंपनी बदलते ही आपका पी यू के कोड अपने आप बदल जायेगा ।
अपराधी सामान्यत: ( 90 प्रतिशत सिम संबंधी क्राइमों में ) आपके सिम लाक कोड, पी यूके कोड , स्थानीय सिम विक्रेताओं या लोकल सिम डीलर से आसानी से हासिल कर लेते हैं , उसके बाद आपकी सिम को लास एंड डेमेज करने का खेल शुरू होता है और आपके ओटीपी , पासवर्ड , वीडियो कालिंग , डिवाइसों पर कम्यूनिकेशन , कालिंग , सिंक्रोनाइजिंग , क्लाउड सिंक्रोनाइजेशन आदि आपके उस नंबर की सारी की सारी अपराधी हासिल कर लेते हैं । कैसे किया जाता है यह इसी आलेख समाचार में आगे पढ़ें ।
3. इंटरनेट सर्फिंग / ब्राउजिंग / हैबिटस / क्लोनिंग / सिंक्रोनाइजेशन/ ट्राझन्स / की लागर्स / मालवेयर्स तथा वायरस आदि
4. सीक्रेट/ हिडन डिवाइसेज और एप्लीकेशन्स / साफ्टवेयर्स आदि जैसे मोबाइलों में हिडन कैमरा एप्लीकेशन इंस्टाल करना
5. सभी प्रकार की ट्रेसिंग डिवाइसेज / सभी प्रकार की ट्रेसिंग एप्लीकेशन्स / साफ्टवेयर्स आदि चाहे वे आफलाइन काम करतीं हों / चाहे वे आनलाइन काम करतीं हों या चाहे वे बैकग्राउंड में काम करतीं हों ( सभी आई पी सी और आई टी एक्ट में परिभाषित अपराध हैं

शेष अगले अंक में …….. कुछ केसेज सायबर क्राइम मुरैना जिला तथा कैसे बनाया जाता है आपको शिकार और कैसे आपकी जान माल खतरे में है , कैसे बचें आप इन अपराधीयों से , कैसे करते हैं अपराधी आई टी और सायबर का इस्तेमाल करते हैं अपराधी , पुलिस कहां और कैसे असफल होती है , कैसे पुलिस में ही घुसे बैठे हैं 90 फीसदी सायबर अपराधी ….
नरेन्द्र सिंह तोमर , एडवोकेट ( आई टी एवं सायबर क्राइम स्पेशलिस्ट , म. प्र उच्च न्यायालय , खंड पीठ . ग्वालियर हाई कोर्ट , जिला एवं सत्र न्यायालय मुरैना

Thursday, October 29, 2020

मुरैना विधानसभा उप चुनाव 2020 के सभी 15 प्रत्याशी, मय चुनाव चिह्न – (06) मुरैना विधानसभा ( मुरैना जिला )

मुरैना विधानसभा ( 06 ) सभी 15 प्रत्याशी मय चुनाव चिह्न
1. रघुराज सिंह कंसाना – भारतीय जनता पार्टी – कमल ( कमल का फूल )
2. राकेश मावई – इंडियन नेशनल कांग्रेस – हाथ ( हाथ का पंजा )
3. राम प्रकाश राजौरिया – बहुजन समाज पार्टी – हाथी
4. धर्मेन्द्र सिकरवार ( गुड्डू) - सपाक्स पार्टी – झूला
5. राजेश कुशवाह - जन अधिकार पार्टी – डोली
6. शोभाराम कुशवाह – राष्ट्रीय समानता दल – चाबी
7. हुकुम चंद बंसल ( हुक्का ) – समाजवादी पार्टी – साइकिल
8. कुलदीप शर्मा – निर्दलीय – मिर्च
9. गौरव दीक्षित – निर्दलीय – ब्लैक बोर्ड
10. धर्मेन्द्र सिंह – निर्दलीय – अलमारी
11. मनीष शर्मा – निर्दलीय – सेब
12. मनोज कुमार सैमिल – निर्दलीय – आटो रिक्शा
13. राजीव शर्मा – निर्दलीय – कैमरा
14. रामसुंदर श्रीवास – निर्दलीय – कप प्लेट
15. शशांक डंडोतिया – निर्दलीय – बल्ला ( बेट)

दिमनी विधानसभा उप चुनाव 2020 के सभी 13 प्रत्याशी, मय चुनाव चिह्न – (07) दिमनी विधानसभा ( मुरैना जिला )

दिमनी विधानसभा ( 07 ) के सभी 13 प्रत्याशी मय चुनाव चिह्न
1. गिर्राज डंडोतिया – भारतीय जनता पार्टी – कमल ( कमल का फूल )
2. रवीन्द्र सिंह तोमर भिडोसा – इंडियन नेशनल कांग्रेस – हाथ ( हाथ का पंजा )
3. राजेन्द्र सिंह कंसाना ( रंधा ) – बहुजन समाज पार्टी – हाथी
4. अनार सिंह तोमर ( बाबा ) – समाजवादी पार्टी – साइकिल
5. गिर्राज प्रसाद – जन अधिकार पार्टी – डोली
6. जयन्त सिंह तोमर – लोकतांत्रिक समाजवादी पार्टी – चाबी
7. महेन्द्र सिंह तोमर ‘’देश प्रेमी’’ – आल इंडिया फारवर्ड ब्लाक – शेर
8. किशोरी लाल – निर्दलीय – एयर कंडीशनर
9. धीरेन्द्र कुमार शर्मा – निर्दलीय – अलमारी
10. रवीन्द्र सिंह तोमर – निर्दलीय – कांच का ग्लास
11. राज श्री शर्मा – निर्दलीय – फुटबाल
12. सरिता देवी – निर्दलीय – आटो रिक्शा
13. सौरव व्यास – निर्दलीय – सेब

Tuesday, October 27, 2020

सूची म.प्र विधानसभा उप चुनाव 2020 के सभी 15 प्रत्याशी, मय चुनाव चिह्न – (04) जौरा विधानसभा ( मुरैना जिला )

मुरैना जिला की जौरा विधानसभा ( विधानसभा क्षेत्र क्रमांक 04 ) से उपचुनाव लड़ रहे सभी 15 प्रत्याशीयों की सूची मय उनके चुनाव चिह्न निम्न प्रकार है –
1. पंकज उपाध्याय – इंडियन नेशनल कांग्रेस – हाथ ( हाथ का पंजा )
2. सूबेदार सिंह रजौधा – भारतीय जनता पार्टी – कमल ( कमल का फूल )
3. सोनेराम कुशवाह – बहुजन समाज पार्टी - हाथी
4. अर्जुन सिंह सिकरवार – भारतीय मजदूर जनता पार्टी – गन्ना किसान
5. धीर सिंह अटल – आदर्श न्याय रक्षक पार्टी – स्टूल
6. एम पी सिंह – आजाद समाज पार्टी ( कांशी राम) - ट्रेक्टर चलाता किसान
7. अवदेश कुमार – निर्दलीय – बल्ला ( बेट)
8. धर्मेन्द्र सिंह सोलंकी – निर्दलीय – कैंची
9. मुनब्बर खान – निर्दलीय – सिलाई मशीन
10. मुंशी लाल – निर्दलीय – डिश एंटीना
11. रजनी शाक्य – निर्दलीय – कोट
12. राजवीर धाकड़ – निर्दलीय – फुटबाल
13. रामेश्वर शाक्य ( रमेश) – निर्दलीय – आटो रिक्शा
14. विनय भैया – निर्दलीय – टी वी रिमोट
15. संजय – निर्दलीय – कप प्लेट

भाजपा ने मनाया दशहरा मिलन समारोह (उज्जैन से )

20201026_120700.jpg भारतीय जनता पार्टी नगर द्वारा दशहरा मिलन समारोह भाजपा लोकशक्ति कार्यालय पर आयोजित किया गया । मिलन समारोह की अध्यक्षता नगर उपाध्यक्ष श्री ओम अग्रवाल ने की । इस अवसर पर उच्च शिक्षा मंत्री डॉ मोहन यादव ने विजयादशमी की शुभकामनाएं देते हुए कहा कि विजयादशमी उत्सव वास्तव में रावण पर विजय प्राप्त करना मात्र नहीं है, रावण से पहले भी भारत था रावण से पहले भी सनातन संस्कृति थी सिर्फ रावण पर विजय प्राप्त करने का अर्थ विजयादशमी नहीं है ! विजयादशमी का अर्थ है सीमा उल्लंघन, हमारी निर्धारित सीमा को लांघकर विजय प्राप्त करना ही सच्चे अर्थों में विजयदशमी है। सफलता की मनोवृत्ति, संघर्ष की मनोवृत्ति, विजय की मनोवृति में भी दिशा सही होना चाहिए विजय प्राप्त करने में हम दिशा नहीं भटके ! हमारी क्षमता, युक्ति, बुद्धि, योग्यता, चातुर्य ये तमाम गुणों के साथ हम अपने जीवन में सफलतम विजय प्राप्त करें यही विजयादशमी है ।
दशहरा पर्व की शुभकामनाएं देते हुए सांसद श्री अनिल फिरोजिया ने कहा की विजयादशमी पर्व पर हमें रावण रूपी कोरोना जैसी महामारी को भी हराना है । जब ही यह दशहरा पूर्ण होगा । इस महामारी को हराना भी हमारे ही हाथ में है चेहरे पर मास्क, दो गज की दूरी ही अभी कोरोना की वेक्सीन है । इस अवसर पर भाजपा ग्रामीण जिलाध्यक्ष श्री बहादुसिंह बोरमुंडला, पूर्व सांसद श्री चिंतामणि मालवीय, श्री जगदीश अग्रवाल, श्री अनिल जैन कलुहेड़ा, पूर्व महापौर श्रीमती मीना जोनवाल, श्री अशोक प्रजापति, श्री राजेन्द्र झालानी, अमित श्रीवास्तव, महेंद्र सिंह रघुवंशी बुद्धिविलास उपाध्याय, विनोद बरबोटा, अनिल शिंदे, गौरव तोमर, जगदीश पांचाल, शिवेंद्र तिवारी, संतोष यादव सहित पदाधिकारीगण, मण्डल अध्यक्ष कार्यकर्ता उपस्थित थे । कार्यक्रम का संचालन श्री सुरेश गिरी ने किया । जानकारी सह मीडिया प्रभारी दिनेश जाटवा ने दी ।
( सचिन खरे सक्सेना , पूर्व आई टी सेल म प्र भाजपा प्रमुख )

Monday, October 26, 2020

मुरैना जिला की सुमावली विधानसभा से उप चुनाव लड़ रहे सभी 9 उम्मीदवारों की सूची और उनके चुनाव चिह्न

सुमावली विधानसभा ( क्रमांक 05 ) से निम्न 9 प्रत्याशी विधानसभा उपचुनाव 2020 लड़ रहे हैं
1. अजब सिंह कुशवाह - इंडियन नेशनल कांग्रेस - हाथ का पंजा ( हाथ)
2. ऐदल सिंह कंसाना - भारतीय जनता पार्टी - कमल ( कमल का फूल)
3. राहुल डण्डोतिया उर्फ सोनू - बहुजन समाज पार्टी - हाथी
4. ममता - आजाद समाज पार्टी ( कांशी राम) - ट्रेक्टर चलाता किसान
5 . शत्रुघ्न सिंह फौजी - सपाक्स - झूला
6. सुनील कुशवाह - समाजवादी पार्टी - साइकल
7. चरन सिंह कुशवाह - निर्दलीय - एयर कंडीशनर
8. रंजीता सिंह - निर्दलीय - अलमारी
9. सतेन्द्र सिंह - निर्दलीय - सेब

Admin area

Last 10 entries

No new comments

  • No comments

Calendar